Main Menu

हाई लिविंग लो थिंकिंग का जमाना

 

लेख    पारुल भटनागर

 

आज किशोर गैजेट्स के मोह में इस कदर फंसे हैं कि वे ब्रैंडेड से नीचे बात नहीं करते. इस से उन की लिविंग तो हाई हो रही है, लेकिन थिंकिंग लो होती जा रही है. जरूरत है वक्त के साथ थिंकिंग को भी हाई करने की.

आज का यूथ लग्जरी जीवन जीने में विश्वास रखता है. उसे लगता है कि अगर पैसा है तो हर सुखसुविधा खरीदी जा सकती है, खुद की फ्रैंड्स में पैठ जमाई जा सकती है, समाज में अपनी अलग पहचान बनाई जा सकती है, जब चाहे पैसे फैंक कर कोई भी काम निकलवाया जा सकता है. भले ही उन्हें पैसे कमाने व लग्जरी जीवन जीने के चक्कर में अपनों से दूर होना पड़े, वे इस से भी पीछे नहीं रहते, जबकि असल में उन की ऐसी सोच सही नहीं है. क्योंकि आज भले ही पैसों की इंपौर्टैंस कहीं अधिक बढ़ गई है, लेकिन यह भी सचाई है कि जहां अपने काम आ सकते हैं, वहां पैसा नहीं. इसलिए पैसों की अंधीदौड़ में इस कदर न बह जाएं कि जीवन में कभी अपनों का साथ ही हासिल न हो.

क्यों जीते हैं लग्जरी लाइफ

देखादेखी बढ़ा लग्जरी लाइफ का चलन

आज युवा अधिकांश चीजें देखादेखी ही खरीदते हैं. उन्हें लगता है कि उन के फ्रैंड के पास महंगा मोबाइल फोन है जिस के फीचर्स उन के फोन से कही अधिक हैं तो वे भी बिना सोचेसमझे वैसा ही फोन और कई बार तो उस से भी महंगा फोन खरीद लेते हैं, जबकि वे ऐसा करते वक्त एक बार भी यह नहीं सोचते कि इस की उन्हें जरूरत है भी या नहीं. उन का देखादेखी इस तरह चीजें खरीदना सही नहीं है, क्योंकि वे अपनी ऐसी सोच के कारण भविष्य के लिए कुछ जमा नहीं कर पाते, जिस से भविष्य में पछतावे के सिवा उन के पास कुछ नहीं रहता.

जल्दी पैसा कमाने की चाह

आज वे जल्दी ऊंचाइयों तक पहुंचने के लिए स्टैप बाई स्टैप चलना नहीं, बल्कि शौर्टकट रास्ता अपनाना पसंद करते हैं, भले ही ऐसा रास्ता कांटों भरा हो. उन्हें तो हर हाल में जल्दी पैसा कमाना होता है. इस के लिए वे गलत काम करने में भी पीछे नहीं रहते. उन की इस के पीछे ऐसी सोच होती है कि चाहे रास्ता कैसा भी हो पैसा तो हाथ में आ ही रहा है और इस से उन की सारी हाई डिमांड्स भी पूरी हो रही हैं.

खुद को रिच दिखाने के लिए

भले ही अंदर से कितने भी खोखले क्यों न हों, लेकिन सब के सामने यह जताने की कोशिश करना कि हम बहुत रिच हैं, इस के लिए वे महंगे ब्रैंडेड कपड़े, घड़ी, परफ्यूम वगैरा खरीदने पर हजारों रुपए पानी की तरह बहाते हैं. भले ही चीजें खरीदने के लिए उन्हें डांट ही क्यों न खानी पड़े, लेकिन वे इस में भी पीछे नहीं रहते, क्योंकि वे नहीं चाहते कि उन का स्टेटस डाउन हो.

गर्लफ्रैंड पर इंप्रैशन जमाने के लिए

चाहे खुद की पौकेट में कुछ हो या न हो, लेकिन गर्लफ्रैंड पर तो हर सूरत में इंप्रैशन झाड़ना ही है, जिस के लिए वे उसे लंच या डिनर करवाने के लिए अपनी सारी पौकेट मनी तक उड़ा देते हैं और उसे महंगे गिफ्ट्स देने के लिए वे पापा से उधार मांगने में भी पीछे नहीं रहते, क्योंकि उन का पूरा फोकस सिर्फ गर्लफ्रैंड के सामने खुद को रिच शो करना जो होता है.

खुद की कमी छिपाने के लिए

पता है कि वे प्रैजैंटटेबल नहीं हैं, उन में ढेर सारी कमियां हैं और उन्हीं को छिपाने के लिए वे हाई लिविंग स्टाइल में जीना पसंद करते हैं ताकि उन की कमियों पर परदा पड़ सके. इस चक्कर में वे यह नहीं सोचते कि अगर आज बिना सोचेसमझे इस कदर पैसा बरबाद करेंगे तो उन का कल सुरक्षित नहीं हो पाएगा.

ज्यादा कमाई भी रीजन

कम उम्र में ज्यादा इनकम होने के कारण वे लग्जरी जीवन जीने में विश्वास करने लगे हैं, जिस से अब उन्हें कुछ भी खरीदने से पहले सोचने की जरूरत नहीं पड़ती.






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *