Main Menu

नए साल का जोश- खोएं न होश

नए साल का जश्न मनाएं पर अपनी सुरक्षा का भी ध्यान रखें और शराब के नशे में धुत होकर होश खोने के बजाय सावधान रहें. वरना नए साल का जश्न जीवन भर का दुख भी बन सकता है.

31 दिसंबर 2003 की रात अहमदाबाद के एक होटल में अपने बॉयफ्रेंड के साथ न्यू ईयर पार्टी मनाने गई बीजल जोशी के लिए वह मस्ती मौत का कारण बन गई. उसके बॉयफ्रेंड सजल जैन ने अपने चार और दोस्तों के साथ मिलकर बीजल के साथ रेप किया. न्यू ईयर ईव पर हुई इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था. बीजल यह सदमा बर्दाश्त नहीं कर सकी और उसने आत्महत्या कर ली. अपने सुसाइड नोट में उसने सजल और उसके चार दोस्तों को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया. लंबे समय तक चले केस के बाद कोर्ट ने सजल और उसके चारों दोस्तों को उम्र कैद की सजा सुनाई.

नए साल की शुरूआत हर कोई उत्साह और मस्ती के साथ करना चाहता है. ढेर सारी मस्ती, धमाल और बिग सेलिब्रेशन के लिए न्यू ईयर पर पार्टी का आयोजन बेहद आम है. खासकर टीनएजर इसे लेकर काफी उत्सहित रहते हैं और नए-नए तरह के प्लान बनाते हैं. लेकिन कई बार पार्टी के जोश में होश खोना महंगा पड़ जाता है और इसकी कीमत आपके साथ-साथ परिवारवालों को भी भुगतनी पड़ती है. नए साल का जश्न मनाएं पर अपनी सुरक्षा का भी ध्यान रखें और शराब के नशे में धुत होकर होश खोने के बजाय सावधान रहें. वरना नए साल का जश्न जीवन भर का दुख भी बन सकता है.

सेक्स पार्टियां बनती जा रही हैं ट्रेंड

नए उभरते ट्रेंड के रूप में आजकल इवेंट कंपनियां युवाओं को लुभाने के लिए फुल नाइट पैकेज बेच रही हैं.  इस पैकेज में नशे का भरपूर डोज शामिल किया जाता है. शराब के साथ स्मैक और ब्राउन शुगर तक उपलब्ध कराई जाती है. नए साल के जश्‍न को रंगीन करने के लिए कई जगहों पर रेव पार्टी का आयोजन भी किया जाता है. यहां तक कि जश्‍न को चरम पर पहुंचाने के लिए इस रेव पार्टी को ‘सेक्‍स पार्टी’ में भी बदलते देर नहीं लगती है. अचरज की बात तो यह है कि ऐसी पाटियों में सबसे ज्‍यादा भीड़ लड़कियों की होती है.

समय अब बदल चुका है. लड़कियां चाहरदीवारी से निकल कर मॉर्डन हो चुकी हैं. पहले जिस वर्जिनिटी को बहुत संवेदनशील मुद्दा समझा जाता था, आज वह उनके लिए कोई मायने नहीं रखता. अगर कुछ मायने रखता है तो वह है उनकी खुशी और आजादी. जिसके आड़े वे अपनी वर्जिनिटी को भी नहीं आने देतीं. लड़कियों के इसी खुलेपन और आजादी का एक रूप है ‘सेक्स पार्टी’. इस पार्टी में सिर्फ लड़कियां इकट्ठा होती हैं.

ये पार्टियां शहर से दूर फॉर्म हाउस या फिर किसी एकांत पिकनिक स्‍पॉट पर होती हैं. इस पार्टी की सजावट बेहद अजीबो-गरीब होती है. कहने का मतलब कि इस पार्टी की सजावट हर तरफ से अपील पैदा करने वाली होती है. खास ड्रेस कोड होता है जो चढ़ते नशे और लाउड म्‍यूजिक के साथ-साथ उतरता जाता है. इस पार्टी में पुरुष स्ट्रिपर को भी बुलाया जाता है. समाज के हर कायदे-कानून से दूर यहां लड़कियां पुरुष स्ट्रिपर्स के साथ खूब इंज्वॉय करती हैं.

सेक्‍स पार्टी करने वाली इंवेट कंपनियों की नजर ज्‍यादातर टीएनजर्स पर होती है क्‍योंकि ज्यादातर टीनएजर्स ऐसी पार्टी पसंद करते हैं. इसके लिए इवेंट कंपनियां कॉलेज स्‍टूडेंट्स का निशाना बनाते हैं और उनके लिए खास प्‍लान तैयार करते हैं.

भारी पड़ जाता है एंज्वॉयमेंट

कई बार ग्लैमरस पार्टियों को एंजॉय करने और इनमें खो जाने की चाहत लड़कियों को भारी पड़ जाती है. वैसे तो, बिगड़ैल युवा हमेशा सीधी-सादी लड़कियों से फायदा उठाने की फिराक में रहते हैं, लेकिन न्यू ईयर के बहाने तो उन्हें इसका मौका मिल ही जाता है. इस दौरान तमाम लड़कियां होटेलों और क्लबों में छेड़छाड़ व रेप की शिकार होती हैं. हालांकि इनमें से गिनती के ही मामले सबके सामने आ पाते हैं और बाकी कहीं दब जाते हैं. लड़कियां अपनी नासमझी की वजह से ऐसी चोट खा बैठती हैं, जो उन्हें पूरी जिंदगी याद रहती है.

ऐसा नहीं है कि सिर्फ बॉयफ्रेंड ही फायदा उठाना जानते हैं. कई बार बॉयफ्रेंड के भरोसे पर पार्टी में गई लड़कियां दूसरे लोगों की बदतमीजी का शिकार हो जाती हैं और बॉयफ्रेंड के लिए अपनी जान बचाना मुश्किल हो जाता है. कुछ साल पहले 31 दिसंबर को मुंबई के एक फाइव स्टार होटल में अपने बॉयफ्रेंड्स के साथ पार्टी मनाने गईं दो लड़कियों को कुछ इसी तरह की स्थिति का सामना करना पड़ा. पार्टी खत्म होने के बाद आधी रात को होटल से बाहर अपने बॉयफ्रेंड्स के साथ टहलने निकलीं लड़कियों पर भीड़ ने हमला बोल दिया और उनके कपड़े फाड़ने शुरू कर दिए. वह तो उनकी किस्मत अच्छी थी कि एक न्यूजपेपर के दो फोटोग्राफर वहां से गुजर रहे थे. उन्होंने न सिर्फ उन वहशी दरिंदों की फोटो खींची, बल्कि पुलिस को भी फोन किया. जाहिर है, इस घटना के बाद अब वे लड़कियां शायद ही कभी न्यू ईयर पार्टी मनाने जाएंगी.

बहकें नहीं

कई बार ऐसा होता है कि ऐसी पार्टी में युवा बिना पहचान के ही हंसी-मजाक कर नजदीकी बढ़ा लेते है. कई बार ड्रिंक्स और स्नैक्स की पेशकश भी कर दी जाती है, लेकिन हर दिन घट रही घटनाओं को देखते हुए यह कह पाना मुश्किल होता है कि फिर इसके बाद आपको किसी समस्या का सामना न करना पड़े। ज्यादा खतरा फार्महाउस और फ्रेंड्स क्लब्स की पार्टियों में होता है. यहां न ही सुरक्षा का कोई बंदोबस्त होता है और न ही जश्न और उल्लास का कोई पैमाना. ऐसे में किसी अपरिचित की निकटता अनजाने में ही सही दुर्घटना का सबब बनती है. छोटे क्लब्स और फार्महाउस की पार्टियों में मर्यादाओं के सारे पैमाने टूट जाते है. ऐसे में ही नशीला पदार्थ खिलाने या अभद्रता वाले मामलों का जन्म होता है. बेहतर रहेगा कि आप नए साल का मजा परिचितों वाली पार्टी में शामिल होकर लें.

कई बार ऐसा होता है कि देर रात पार्टी समाप्त होने पर घर छोड़ने के लिए ऐसे कई लोगों के ऑफर मिलते है जो थोड़े समय पहले ही आपको मिले और दोस्त बन गए. ऐसे किसी मित्र या परिचित के बहकावे में न आएं. ‘बेशक नए साल का जश्न मनाएं और पार्टियों में शिरकत करे, लेकिन अपने अभिभावक या भाई को साथ लेकर पार्टी इंज्वाय करे. इससे किसी भी तरह की मुसीबत से आप सुरक्षित बनी रहेगी.

नशे से बचें

पार्टी में अक्सर युवा ज्यादा शराब का सेवन कर लेते हैं. जिसके बाद वे न तो सोशल रह जाते हैं और न ही पर्सनल. कई बार तो वे  नशे में मारपीट पर भी उतारू हो जाते हैं. ऐसे में रोड रेज की घटना भी काफी बढ़ जाती है. कई लोग ‘डेट रेप ड्रग्स’ का इस्तेमाल लड़कियों का रेप करने के लिए करते हैं. ऐसे में लड़कियों को पार्टी के दौरान नशे से बचना चाहिए.

जाहिर है, लड़कियों को ऐसे मौकों पर घर से बाहर निकलते वक्त काफी ध्यान रखना चाहिए. मस्ती जरूर करें, लेकिन होश के साथ. कोशिश करें कि फैमिली के साथ ही पार्टी एंजॉय करने बाहर जाएं. अगर ऐसा संभव नहीं हो और आपको अकेले जाना हो, तो कुछ ज्यादा ही सावधान रहें. अगर आप बॉयफ्रेंड के साथ जा रही हैं, तो उस पर विश्वास करें, लेकिन अंधविश्वास नहीं. आपको ड्रिंक को लेकर भी सावधानी बरतने की जरूरत होगी. किसी दूसरे के हाथों से ड्रिंक न लें. हो सके, तो अपने कुछ कपल फ्रेंड्स को भी साथ ले लें. कोशिश चही करें कि नशे से दूर रहें. होश खोने के बाद कोई भी फायदा उठा सकता है. रात में अकेली घर लौटने के बारे में न सोचें. ऐसे में घर से पार्टी में जाने और लौटने के बारे में पहले ही सोच कर जाएं.

बॉक्स

कैसे रहें सुरक्षित

न्यू ईयर पार्टी का क्रेज कुछ यूं होता है कि युवा डांस और शराब की मस्ती में डूब कर अक्सर अपनी सुरक्षा में चूक कर बैठते हैं. ऐसे में सबसे ज्यादा खतरा लड़कियों को होती है. लेकिन अगर इन चंद बातों को ध्यान में रखा जाए तो लड़किया भी मौज-मस्ती के साथ-साथ अपने आप को सुरक्षित रख सकती है.

* नए साल की पार्टी में लड़कियों को अकेले नहीं ग्रुप में जाना चाहिए, और ध्यान रहे कि उस ग्रुप में आपके जानने वाले लोग भी हो.

* किसी दूसरे जगह पार्टी करने जाने से पहले अपने घरवालों को उस स्थान की सूचना जरूर दें. पार्टी के दौरान मौज-मस्ती करते समय अपने आप को हमेशा चौकन्ना रखें.

 *ऑटो या टैक्सी लेते वक्त सचेत रहें, और किसी अनजान के साथ टैक्सी शेयर न करें. टैक्सी/ऑटो में बैठने के बाद उसका नंबर अपने फ्रेंड या फेमली मेंबर को एसएमएस  कर दें.

*अगर आप अकेली हैं तो फोन पर किसी से लगातार बात करती रहें ताकि ड्राइवर कुछ गड़बड़ी न करे सके.

*किसी भी तरह का ड्रिंक लेने से पहले उसे अच्छी तरह से जांच कर ले.

* खाने-पीने के समय अपना ग्लास या प्लेट छोड़कर कही न जाएं. कोई भी नशीवा पदार्थ मिला सकता है.

*खाने-पीने के मामले में सतर्कता रखना जरूरी है. अगर आपको ड्रिंक का स्वाद जरा भी अलग लगे तो बेहतर है कि उसे न पिएं. खाने के मामले में भी सावधान रहें और अनहेल्दी चीजों से बचें.

*अपने मोबाइल का जीपीएस हमेशा ऑन रखें ताकि आपको प्लान चेंज होने पर भी आपके करीबी लोगों को पता चल सके कि आप हैं कहां और आप तक आसानी से पहुंचा जा सके.

 






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *